उस समय के कुछ दुर्लभ क्षण जब गुरुदेव ने मानव रूप को सुशोभित किया था। व्यक्तिगत घटनाओं को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

– (श्री राजपॉल सेखरी द्वारा लिखित – गुरुदेव के प्रमुख शिष्यों में से एक)

51. जब गुरूजी ने मुझे अस्पताल के ICU विभाग में, किसी मरीज़ को जल देने भेजा।

एक बार की बात है, गुरूजी अपने गोल मार्किट वाले क्वॉटर के बाहर खड़े थे कि अचानक कुछ लोग आये और गुरुजी से, अपने किसी व्यक्ति के बारे में बताने लगे जो किसी अनजान बीमारी से ग्रसित था। गुरजी ने मुझे आदेश दिया—‘ ‘राज्जे, तुम इन लोगों के साथ अस्पताल जाओ और उस व्यक्ति को…

50. जब गुरुजी ने मुझे, एक ‘मिरगी’ के मरीज को सड़क पर ठीक करने पर डाँट लगाई।

एक दिन सुबह-सुबह का समय था और हमेशा की तरह मैं, अपन शोरुम में बैठा था कि मेरा एक चपरासी दौड़ता हुआ आया और मुझसे कहने लगा कि बाहर एक आदमी को ‘मिरगी का दौरा’ पड़ गया है। मैं दौड़कर बाहर आया और देखा कि वास्तव में ही उसे ‘मिरगी का दौरा’ पड़ा था। उसकी…

49. जब पंजाबी बाग में, गुरुजी ने लगातार सिरदर्द के लिए, एक महिला के माथे पर स्ट्रोक्स लगाये।

एक दिन की बात है, देर शाम को गुरुजी, पंजाबी बाग आये और हमेशा की तरह लोग उनके दर्शन के लिए आना शुरु हो गये। तभी मेरी पत्नी गुलशन की एक सहेली, गुरुजी के पास आयी और उनसे प्रार्थना करने लगी कि वह अपने लगातार होने वाले सिर दर्द से बहुत परेशान है। गुरूजी ने…

48. जब मुझे अपने बड़े भाई की मौत का स्वप्न आया

अपने शयनकक्ष में मैं सो रहा था। मैंने स्वप्न में अपने छोटे भाई को देखा, जो मुझसे कह रहा था—- ”उठो हमारे बड़े भाई, सत्यपाल की मृत्यु हो गई है।” मैंने उसे नज़रादाज़ कर दिया और फिर से सो गया। कुछ देर बाद वह फिर आया और पुनः याद दिलाते हुए बोला— ”तुम अभी तक…

47. जब एक सरदारजी, चार महीनों से, कुछ भी नहीं खा पा रहे थे।

एक परिवार लगभग चालिस वर्षीय एक अद्भुत मरीज़ को गुरुजी के पास लेकर आया, जिसने पिछले चार-पाँच महीने से कुछ भी नहीं खाया था। वह बिलकुल एक कंकाल की तरह लग रहा था। वे गुरुजी के पास आया और बताया कि जब वह खाना चबाता है और उसे निगलने की कोशिश करता है तो काँपने…

46. जब गुरुजी के शिष्य की बेटी, अपनी परीक्षा से पहले, विषय के बारे में ही भूल गई।

एक बार गुरुजी के पहले शिष्यों में से एक, श्री एफ. सी. शर्मा जी, जो गुरुजी के विभाग में ही काम करते थे, आये और गुरुजी को अपनी परेशानी का कारण बताया। उनकी बेटी सुनीता की परीक्षा है और उसका फोन आया है कि उसने परीक्षा के विषय के बारे में जो कुछ भी याद…

45. जब एक महिला, पिछले छः महीनों से सो नही सकी।

कुछ ऐसे लोग, जो मेरे अपने सोशल सर्कल में भी आते हैं, उन्हें भी पता लगा कि गुरुजी ने मुझे कुछ आध्यात्मिक शक्तियाँ दी हैं और मैं अपने घर पर ही लोगों की सेवा करता हूँ । एक बार मेरी धर्मपत्नी की आन्टी ने उसे बताया कि उसकी बहू, (बेटे की पत्नी) पिछले छ: -आठ…

44. जब डॉक्टर कुमुदिनी मेरे पति अपने आसक्त प्रेम के बारे में जानना चाहती थी।

जैसा कि गुरुजी ने मुझे आदेश दिया था, मैं प्रत्येक शनिवार के दिन सुबह-सुबह अपने घर पंजाबी बाग में लोगों की सेवा के लिए बैठ जाता था। बहुत से लोग वहाँ अपनी समस्यायें लेकर आते और मैं गुरुजी द्वारा दी गई आध्यात्मिक शक्तियों का प्रयोग करता और लोग अविश्वस्नीय तरीके से ठीक हो जाते और…

43. जब मैंने वीरवार के दिन गलती से शेव कर ली।

गुरुजी द्वारा कुछ विशेष निधारित नियम हैं, जो हम सब के लिए आध्यामिक उपलब्धि और शान्तिपूर्ण अच्छी जिन्दगी जीने के लिए मानना जरुरी है। जिसमें से एक नियम वीरवार के दिन शेव न करना भी है। वीरवार का दिन था। जब मै सुबह नहाने के लिए गया, तो गलती से मैंने शेव कर ली। लेकिन…

42. गुरूजी ने मुझे तुरन्त कुल्लू बुलाया

मैं अपनी फैक्ट्री में बैठा था कि अचानक सूरी की माताजी का फोन आया और उन्होंने मुझसे कहा कि आपको गुरुजी ने अभी कुल्लू बुलाया है। मैं अपने ड्राईवर, शिव कुमार को साथ लेकर एअरपोर्ट पहुंचा। जब मैं वायुदूत सेवा के टिकट काउन्टर पर पहुंचा और मैंने टिकट खरीदा वह उस फ्लाईट का आखिरी टिकट…